सावन माह के आगाज पर भोले के जयकारों से गूंजे शिवालय

काँगड़ा जिला के डाडासीबा में सावन माह के आरम्भ होने पर मंगलवार को शिवालय भोले के जयकारों जिलेभर में गूंजते रहे। भोले बाबा के दर्शन के लिए मंदिरों में सुबह से ही भक्तों की भीड़ लगना शुरू हो गई। सावन माह की शुरुआत भोले बाबा की पूजा-अर्चना के साथ हुई
। रानीताल के नज़दीक पड़ते नाग मंदिर में पूजा-अर्चना करने पहुंचे श्रद्धालु । इस सावन के माह में कांगड़ा के करियाड़ा में सिद्ध बाबा बालक नाथ नाग मंदिर में दो महीने तक चलने वाले मेले भी शुरू हो गए है । मंगलवार सुबह से ही नाग मंदिर में भक्तों की कतारें लगनी शुरू हो गईं।श्रद्धालु शिवलिंग पर दूध और जल चढ़ाकर अपनी मनोकामना पूर्ण करने के लिए अरदास कर रहे थे । मंदिर के पुजारी कुलदीप सिंह ने कहा कि कन्या पूजन के साथ मेले शुरू हो गए थे।


करियाड़ा में शक्तिपीठ नाग मंदिर में होने वाले सावन माह के मेलों का शुभारंभ

करियाड़ा में शक्तिपीठ नाग मंदिर में आयोजित होने वाले सावन माह के मेलों का शुभारंभ कंजक पूजा द्वारा किया गया । सावन माह में जिला कांगड़ा के अलावा भी अन्य पड़ोसी राज्यों से सैकड़ों श्रद्धालुओं ने अपने परिवार सहित नाग पिंडी के रूप में विराजमान द्वारा, श्री सिद्ध बाबा बालक नाथ व मां वैष्णो की गुफा में देवी मां के भक्तों ने दर्शन किए।

अन्य समाचार :

नाग मंदिर प्रबंधक कुलदीप सिंह गुलेरिया ने कहा कि मंगलवार की सुबह करीब पांच बजे के आस पास से ही श्रद्धालुओं का आना शुरू हो गया था। मंदिर में भक्तों के लिए व्यवस्था के प्रबंध किए गए । मंदिर के प्रबंधक कुलदीप सिंह गुलेरिया ने बताया की प्रत्येक मंगलवार, शनिवार और रविवार को ही मेले का आयोजन किया जाता है। यह माना जाता है कि जो भी भक्त यहां सच्ची श्रद्धा से इच्छा मांगते हैं, वे कभी खाली नहीं लौटते हैं । बरसात में साँप काटने वाले पीड़ितों को नाग पिंडी के चारों ओर फेरी देकर उनका जहर उतरना शुरू हो जाता है । सावन माह में प्रदेश के कई स्थानों पर खीर के भण्डारे भी करवाए जाते है ।

Leave a Reply