Press "Enter" to skip to content

बगलामुखी मंदिर (Baglamukhi) Kangra, जहां हवन करवाने से होता है कष्टों का निवारण

भारत में विश्विख्यात माता बगलामुखी (Baglamukhi) के तीन प्रमुख ऐतिहासिक मंदरों में से एक वनखंडी (Teshil Dehra, District Kangra, Himachal Pradesh) स्तिथ में है। बाकी के दो मंदिर दतिया जिले (Madhya Pradesh) तथा नलखेड़ा जिला शाजापुर (Madhya Pradesh) में हैं।

बगलामुखी मंदिर की मान्यता – Recognition of Bagalamukhi Temple

देव भूमि हिमाचल पुराने समय से ही देवताओं व ऋषि-मुनियों की मुख्य तपोस्थली रहा है। माता बगलामुखी का मंदिर कांगड़ा जिले के प्रसिद्ध शक्तिपीठ ज्वालामुखी Jwalamukhi Temple in Kangra से लगभग 22 KM दूर ‘वनखंडी’ नामक स्थान पर स्थित है। पूरे साल भर यहां दूर दूर से श्रद्धालु मन्नत माँगने व मन्नत पूरी होने पर आते-जाते रहते हैं। इस मंदिर का पूरा नाम ‘श्री 1008 बगलामुखी वनखंडी मंदिर’ है।Jwalamukhi Temple

History of Bagalamukhi Temple

माना जाता है कि माता बगलामुखी के मंदिर की स्थापना वनखंडी में द्वापर युग में पांडवों द्वारा अज्ञातवास के समय दौरान रात में की गई थी । मंदिर बन जाने के बाद अर्जुन एवं भीम द्वारा युद्ध में शक्ति प्राप्त व माता बगलामुखी की कृपा पाने के लिए एक विशेष पूजा की गई थी । उसी समय से यह मंदिर लोगों की मनोकामना पूर्ण करने वाला आस्था व श्रद्धा का केंद्र बना हुआ है।