मंडी जिले के धर्मपुर (Dharampur, District Mandi, Himachal Pradesh 175040) उपमंडल के मुख्यालय में कुछ शरारती तत्वों (some mischievous people) ने दशहरे वाले दिन मंगलवार की सुबह पांच बजे ही कालेज ग्राउंड में शाम के कार्यक्रम के लिए खड़े किये गए रावण (Ravan Dahan) के पुतले को आग लगा दी।

सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार बहुत सारे लोग अभी सो रहे थे, अचानक से जब स्थानीय लोगों ने पटाखों के चलने की आवाज (Firecrackers) सुनी तो वो मौके पर पहुंचे तो उन्होंने देखा कि रावण का पुतला धू-धू करके जल (Burn in smoke) रहा था।

धर्मपुर के स्थानीय व्यापार मंडल व विजय मेमोरियल सीनियर सेकेंडरी स्कूल (Dr. Vijay Memorial Sr. Sec School – Dharampur) की ओर बनाए गए पुतलों को मंगलवार शाम को जलाया जाना था। सुबह ही रावण (Ravan Dahan) के पुतले को आग के हवाले कर शरारती तत्त्वों ने आयोजकों की सारी मेहनत पर पानी फेर दिया। जिसके बाद लगभग छह घंटों में जल्दीबाज़ी में फिर से रावण का पुतला फिर तैयार किया गया।


स्कूल के बच्चों व स्टाफ (school student and staff members) के अलावा पुलिस की भी निगरानी

विजय मेमोरियल सीनियर सेकेंडरी स्कूल धर्मपुर द्वारा पिछले दो साल से चलाई जा रही है । दशहरे की परम्परा के अंतर्गत हर वर्ष कालेज ग्राउंड (College Ground, Dharampur, Mandi, Himachal Pradesh) में स्कूल के बच्चों द्वारा दशहरे के दिन रंगारंग झांकियां निकाले जाने के बाद शाम को रावण, कुंभकर्ण व मेघनाद आदि के पुतले जलाए जाते हैं।

स्कूल के डीपीई (Director of Physical Education) ने बताया कि हमें कुछ होने का अंदेशा था लेकिन ये नहीं पता था कि रावण को ही जला दिया जायेगा । स्कूली बच्चों व स्टाफ, व्यापार मंडल धर्मपुर (Business Division Dharampur) और कुछ समाजसेवी लोगों ने मेहनत कर रावण, मेघनाद आदि के पुतले बनाए थे। जिन की सुरक्षा के लिए रात के बारह बजे तक कुछ बच्चे और स्टाफ के साथ साथ स्थानीय पुलिस भी निगरानी कर रही थी।

लेकिन सुबह पांच बजे पुलिस कर्मी गश्त कर बाजार और बैंक की ओर गए तभी ताक में बैठे शरारती तत्त्वों ने पुतले को आग लगा कर वहां से भाग गए।

व्यापार मंडल धर्मपुर के प्रधान सचिव व समाजसेवियों (Social Workers) ने इस घटनाक्रम की कड़ी निंदा की है। वहीं पुलिस अब गहनता से इस मामले के आरोपी गुप्त शरारती तत्वों की छानबीन कर रही है।

Comments are closed.