हिमाचल प्रदेश के सुंदरनगर से बैहना, मलोरी, बग्गी तक की सड़क की खराब हालत पर ग्रामीणों का गुस्सा फूट पड़ा। इस बात से गुस्साए ग्रामीणों ने सुबह दस बजे ही बैहना में चक्का जाम कर दिया। जिसके चलते महिलाओं, स्कूल के बच्चों और युवाओं द्वारा खूब हंगामा किया गया और इन लोगों ने सड़क के बीच बैठकर वाहनों के आने जाने पर रोक लगा दी।

मौके पर विधायक इंद्र सिंह गांधी, एसडीएम आशीष शर्मा और अड्डा प्रभारी किशन चंद पहुंचे

इस बीच प्रशासन, परिवहन निगम और राष्ट्रीय मार्ग प्रबंधन पर जमकर अपना गुस्सा निकाला। जिस वजह से लोगों ने नारेबाजी करके विधायक, एसडीएम और आरएम को मौके आने के लिए मजबूर किया। इस सब की सूचना मिलते ही पुलिस घटनास्थल में पहुंची और मामले को शांत करवाने की कोशिश की, पर गुस्साए ग्रामीण नहीं माने। तीन घंटे तक ग्रामीणों ने बैहना में वाहनों को रोके रखा। जिसके बाद में मौके पर विधायक इंद्र सिंह गांधी, एसडीएम आशीष शर्मा और अड्डा प्रभारी किशन चंद पहुंचे और उन्होंने ग्रामीणों को आश्वासन देकर उनका गुस्सा शांत करवाया और सड़क मार्ग को खुलवा दिया।


विधायक ने निगम की बस में सफर कर लिया सड़क का जायजा

विधायक ने अपने बयान में कहा है कि ग्रामीणों की मांगें जल्दी ही मानी जाएंगी। इसके साथ ही विधायक ने निगम की बस में सफर कर सड़क का जायजा भी लिया।आगे उन्होंने ने कहा है कि कई प्वाइंट ऐसे हैं, जहां दिक्कत है। इस सब को दूर करने के लिए एनएचएआई को सड़क की मरम्मत के निर्देश दे दिए हैं। साथ ही परिवहन निगम के अधिकारियों को जल्द बस चलाने के लिए बोल दिया है।

लोगों ने चेतावनी : सड़क मार्ग ठीक नहीं किया तो ज्यादा तेज हो जायेगा आंदोलन

लोगों ने सर्कार को चेतावनी दी है सड़क मार्ग को सही नहीं किया गया तो फोरलेन के सारे काम को बंद करवा देंगे। स्थानीय महिला मंडल की प्रधान सुमन ने कहा “बस बंद होने से लोगों को बहुत परेशानी का सामना करना पड़ रहा है।” हिमाचल बचाओ संघर्ष मोर्चा के अध्यक्ष लक्ष्मेंद्र सिंह ने विधायक इंद्र गांधी और एसडीएम बल्ह का मौके पर पहुंचने के लिए आभार जताया है।

Author

Comments are closed.