Himachal News

हिमाचल प्रदेश की खेती की तकनीक अपनाई गी हरियाणा सरकार, गुजरात के राज्यपाल भी रहे मौजूद

agreecula

हिमाचल प्रदेश में प्राकृतिक खेती खुशहाल किसान योजना के तहत शुरू की गई योजना के मोडल को अब सुभाष पालेकर प्राकृतिक खेती मॉडल को गुजरात और हरियाणा सरकार भी अपनाएगी। इसी के साथ कुरुक्षेत्र के गुरुकुल में आयोजित सुभाष पालेकर प्राकृतिक खेती की कार्यशाला में हरियाणा के मुख्यमंत्री मनोहर

लाल खट्टर ने प्राकृतिक खेती को अपनाने की अधिकारिक घोषणा करते हुए इस खेती विधि को एक लाख एकड़ में करने की तैयारियां करने के लिए अधिकारियों को निर्देश दिए हैं। जिस के लिए लगभग सभी प्रारूप तैयार क्र लिए गए है।

प्राकृतिक खेती “खुशहाल किसान योजना”

इसी दौरान हिमाचल प्रदेश में प्राकृतिक खेती “खुशहाल किसान योजना” के कार्यकारी निदेशक प्रो। राजेश्वर सिंह चंदेल ने गुजरात के राज्यपाल, हरियाणा सरकार के मुख्यमंत्री, मंत्रियों और विधायकों के सामने हिमाचल में चल रही प्राकृतिक खेती विधि की गतिविधियों और इसके कार्यान्वयन के बारे में एक प्रस्तुति दी।

इस रिपोर्ट को और मोडल को देख के इस मौके पर प्रो चंदेल ने कहा कि हिमाचल मॉडल से संबधित सभी जानकारियां हरियाणा सरकार के साथ साझा की जाएंगी। जिस से हिमाचल की यह परियोजना हरियाणा में भी लागू की जाएगी,इस दौरान उन्होंने कहा कि पॉलिसी के निर्माण में हरियाणा की ओर से जो भी मदद मांगी जाएगी, जो भी मदद हो पाएगी वो हरियाणा सरकार करेगी।

50000 और नये किसानो को जोड़ने के लक्ष्य

हिमाचल प्रदेश की इस खेती के साथ ही हरियाणा के किसान हिमाचली किसानों के मॉडल को देखकर इस खेती को आसानी से सीख सकेंगे। प्रो चंदेल ने अपनी प्रस्तुती में बताया कि हिमाचल सरकार ने इस साल 50 हजार पहले से प्राकृतिक खेती कर रहे किसानों के साथ 50 हजार नए किसानों को जोड़ने का लक्ष्य रखा है।

इस दौरान प्रदेश में लगभग 50000 और नये किसानो को जोड़ने के लक्ष्य रखा गया है। इसी दौरान कार्य योजना तैयार कर ली गई है। उन्होंने बताया की प्राकृतिक खेती विधि में पहले ही वर्ष में किसानों के उत्पादन में बढ़ोतरी देखी गई है।

खेती के प्रोत्साहन के लिए उठाये जायेंगे अहम कदम

इससे अन्य किसान भी इस खेती विधि की ओर आकर्षित हो रहे हैं। इस दौरान हरियाणा सरकार का दावा है कि प्रदेश में इस खेती विधि को शुरू किया जाएगा और यदि किसी किसान के उत्पादन में कमी आती भी है,

तो उसकी क्षतिपूर्ति करने के बारे में भी सरकार योजना तैयार करेगी। जितना हो सकेगा, उतना सरकार द्वारा नयी योजनाए बनाई जाएँगी। और समय समय पर खेती के प्रोत्साहन के लिए सही कदम उठाये जायेंगे।

Himachal Pradesh's farming technology was adopted, Haryana Government, Governor of Gujarat were also present

Related posts

प्रदेश में हेलीकॉप्टर क्रैश की अफवाह ने फैलाई पुरे गांव में हड़कंप

Deepali Sharma

प्रदेश में यशवंत सिंह परमार औद्यानिकी व वानिकी विश्वविद्यालय में दी गयी 1104 डिग्रियां

Aakash Lal

धार्मिक आस्था के आगे नहीं टिक पाया प्रसाशन, कोरोना वायरस का खौफ नहीं

Abhishek Pathania